शादी की सालगिरह पर पत्नी ले आई फूलों का हार जबकि पति लाया ज़हर में डूबा हुआ चॉकलेट और फिर…


3. माता-पिता और बड़े भाई के लिए अलग-अलग से लिखा सुसाइड नोट:

बच्चे का खिलौना भी पुरे रूम में बिखरा हुआ था। घरवालों का कहना है कि खेलते-खेलते ही बच्चे ने चॉकलेट खाया और सो गया, उसके बाद कभी उठा ही नहीं। शव को फ़्लैट से निचे उतारते समय सभी लोगों की आँखों में पानी था। आपको बता दें ठेकेदार निशांत ने माँ-पिता और अपने बड़े भाई के लिए दो अलग-अलग सुसाइड नोट छोड़ा हुआ था। निशांत ने माता-पिता को लिखे सुसाइड नोट में लिखा था, आदरनीय मम्मी-पापा, मुझे माफ़ कर देना। मैं अन्दर से बहुत टूट गया हूँ। मेरी वजह से मम्मी आपको और मुन्नी को काफी कुछ सुनना पड़ता है। मैं एक जिन्दा लाश बन चूका हूँ, किसी भी काम में मन नहीं लगता है।

4. कर्जों के लिए परेशानान किया ना जाये मेरे परिवार को:

निशांत ने बड़े भाई को लिखे गए सुसाइड नोट में लिखा था, भैया, सादर प्रणाम, अब तुम्हारे ऊपर बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। ऐसे माँ-बाप बहुत किस्मत से मिलते हैं। इन दोनों का अच्छे से ख़याल रखना। अगर मुझसे कोई गलती हुई हो तो मुझे माफ़ कर देना। निशांत ने आगे लिखा था मैं अपने मौत की जिम्मेदारी लेता हूँ।

मैंने किसी के कहने या किसी के दबाव में यह कदम नहीं उठाया है। मेरे परिवार का कोई भी सदस्य इस घटना के लिए जिम्मेदार नहीं हैं। जहाँ तक मेरी कम्पनी की बात है, इसका मालिकाना हक मेरे पास है। अब तक कंपनी में जो कुछ भी हुआ, उसकी जिम्मेदारी मेरी है। कर्ज के लिए मेरे परिवार वालों को परेशान ना किया जाये।


Like it? Share with your friends!

शादी की सालगिरह पर पत्नी ले आई फूलों का हार जबकि पति लाया ज़हर में डूबा हुआ चॉकलेट और फिर…

log in

reset password

Back to
log in